जब बात हो शादी की तो लोग कहते है रिश्ते धरती पर नहीं आसमानो पर बनते है हमारी आज की कहानी पढ़ने की बाद आपको लगेगा की वाक़ई रिश्ते धरती पर नहीं आसमानो पर ही बनते है

MAY I COME IN  SIR ?

 रोजाना की तरह कैप्टेन अनूप उस दिन भी फ्लाइट उड़ा रहे थे अपने कानो के पीछे सी आयी इतनी प्यारी आवाज सुनकर कैप्टेन कचरू का सारा ध्यान उस आवाज़ की ओर खींच गया। …. और बिना कुछ सोचे कैप्टेन कचरू ने रीमा को कॉकपिट में आने का इशारा कर दिया। रीमा को कुछ हेल्प चाहिए थी उसने कैप्टेन कचरू से पूछा और चली गयी, लेकिन कैप्टेन कचरू तो सिर्फ रीमा की आवाज़ को सुनकर इतना खो गए की उनको पता ही नहीं चला की कब रीमा अपनी बात पूछ कर चली गयी है

इसके बाद से कैप्टेन कचरू रीमा के आवाज़ के दीवाने हो गए उन्हें लगा कि एक बार बात करके इतना अच्छा लगा तो अगर ये आवाज़ उनकी जिंदगी में हर रोज सुनाई दे तो जिंदगी ही कुछ और हो जाएगी,अपनी मंजिल पर पहुंचने के बाद एयरपोर्ट के बुफे(खाना खाने की जगह) में एक बार फिर कैप्टेन कचरू और रीमा का आमना सामना हुआ  लेकिन एक दुसरे से बातचित नहीं की। ..आपको बता दे कि कैप्टेन अनूप कचरू और रीमा एक पायलट और एयर हॉस्टेस थे जोकि एक फ्लाइट में ही पोस्टेड थे

उस दिन खाना खाने के बाद कैप्टेन कचरु ने रीमा के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारी जुटाने लगे और इस दौरान उनको पता चला कि रीमा दिल्ली की रहने वाली है वो उन दिनों नॉएडा में रहा करते थे लेकिन अपने काम के नेचर की वजह से दोनों चेन्नई में ट्रेनिंग कर रहे थे इसलिए दोनों की रोजाना मुलाक़ात हो जाती थी धीरे -धीरे दोनों को एक-दुसरे का साथ पसंद आने लगा और ये रोजाना की मुलाक़ात प्यार में बदल गयी,इसके बाद दोनों ने शादी का फैसला ले लिए और अपने-2  घर में अपने रिश्ते की जानकारी दी..

सब जानते है हिंदुस्तान में अपने प्यार को पाना भी एवरेस्ट की चढ़ाई चढ़ने के बराबर है इन दोनों की बारी में भी ऐसा ही हुआ, बात ये थी कि कैप्टेन कचरू कश्मीरी थे और रीमा पंजाबी। .. लेकिन कैप्टेन कचरू के परिजन इस रिश्ते के सपोर्ट में थे जबकि रीमा के परिजन बिलकुल ख़िलाफ़। ….. कारण था दोनों का अलग अलग जात से होना। …जब रीमा और कैप्टेन कचरू के काफी समझाने के बाद भी रीमा के परिजन नहीं माने तो कैप्टेन कचरू के पिता ने इस लड़ाई क मोर्चा संभाला लेकिन कैप्टेन कचरू के पिता की कोशिश भी बेकार हो गयी। …

ऐसे में कैप्टेन कचरू और रीमा को लगा की ऐसे तो कुछ नहीं होने वाला तो दोनों ने अपने घरवालों को कहा कि अगर आप लोग हमारी शादी नहीं कराएँगे तो हम खुद से कोर्ट में जाकर शादी कर लेंगे, जिस वजह से रीमा के घरवालों को भी रीमा और कैप्टेन कचरू के प्यार के आगे झुकना पड़ा और फिर दोनों परिवार ने ख़ुशी से 9.aug.1996 को दोनों की सगाई निश्चित करदी गयी और इसके ठीक 9 महीने बाद 9.मई.1997 के दिन  दोनों एक दूसरे के जिंदगी भर के हमसफ़र बन गए। 

रीमा और कैप्टेन कचरू की शादी की ख़ास बात तो ये थी कि दोनों ने अपनी शादी का जश्न दो बार मनाया और दोनों बार अपने अपने रीतिरिवाज़ों के अनुसार फ़ेरे लिए और हर बार 9 तारीख़ को ही सभी प्रोग्राम तय किये गए इसके पीछे कारण था कि रीमा के लिए 9 न. बहुत ही लकी था

आज कैप्टेन कचरू और रीमा की शादी को 21 साल हो चुके है और दोनों अपनी इस शादीशुदा ज़िंदगी से बहुत खुश है इस बीच रीमा ने दो बच्चो को जन्म दिया जिसमे से एक बेटा है जोकि विदेश में पढाई कर रहा है जबकि बेटी ने दसवीं के बोर्ड एग्जाम देकर अच्छे अंक प्राप्त किये है। ..शादी के बाद रीमा ने अपनी एयर हॉस्टेस की जॉब छोड़ दी आजकल फ़िलहाल रीमा खुद की लॉ फर्म  चलाती  है

और वही कैप्टेन कचरू प्राइवेट चार्टेड प्लेन चलाया करते है

तो दोस्तों ये थी कैप्टेन अनूप कचरू और रीमा POORISHAADI  की कहानी आपकी ज़ुबानी। ..अगर आपकी भी ऐसी कोई कहानी जो है सबको बतानी तो शेयर कीजिये हमारे, साथ हम शेयर करेंगे सबके साथ

                                                       

अपनी कहानी भेजने के लिए हमे ईमेल कीजिये : poorishaadikikahaaniya@gmail.com


5 Comments

khushboo Gupta · June 9, 2018 at 5:50 pm

Amazing love story

Nisha · June 9, 2018 at 5:50 pm

It’s nice story n it’s misaal of every couple…..😘

Amita Chaudhary · June 9, 2018 at 6:41 pm

It’s awesome video n awesome story wowwww super 👌👌

Dr Puja Grover · June 9, 2018 at 8:42 pm

One of the most loving couple . God bless them

Meenu · June 10, 2018 at 3:59 pm

Reema and Anoop make a wonderful.Its a pair made in heaven.wishing them all the best

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please wait...

Subscribe to our newsletter

Want to be notified when our article is published? Enter your email address and name below to be the first to know.